Tuesday, May 18, 2021

Mind - Enemy or Friend ? | मन - शत्रु या मित्र ? | Tarun Krishna Das

I get alot of queries in this program that "I am not able to fix my mind in doing something". This also means that many of us have a constant problem with the wavering mind. We are not able to decide whether our mind is able to help us as a friend or is acting as an enemy. It's a catch 22 situation. Let us unfold this mystery together... मुझे इस कार्यक्रम में बहुत सारे प्रश्न मिलते हैं कि "मैं कुछ करने में अपना दिमाग ठीक नहीं कर पा रहा हूँ"। इसका मतलब यह भी है कि हम में से कई लोगों को डगमगाते दिमाग से लगातार समस्या होती है। हम यह तय नहीं कर पा रहे हैं कि हमारा दिमाग एक दोस्त के रूप में हमारी मदद करने में सक्षम है या दुश्मन के रूप में कार्य कर रहा है। यह कैच 22 की स्थिति है। आइए इस रहस्य को एक साथ उजागर करें ...
Powered by Blogger.